2019 विश्व कप में भारत की असफलता को लेकर युवराज सिंह ने दिया बयान। बताया कहाँ रह गयी थी कमी

Yuvraj Singh
- Advertisement -

भारत के पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह ने आईसीसी आयोजनों में टीम इंडिया के प्रदर्शन की आलोचना की। भारत ने 2013 के बाद से कोई आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीती है और नॉकआउट खेलों में बुरी तरह से फीकी दिखी है। विशेष रूप से ICC ODI क्रिकेट विश्व कप 2019 के बाद, इस विषय पर बहुत चर्चा और तर्क हुए हैं।

चूंकि ICC T20 WC और ICC ODI WC आगामी दो महत्वपूर्ण टूर्नामेंट हैं जो जल्द ही आने वाले हैं, इसलिए अतीत की और झांकते हुए इस विषय पर चर्चा फिर से शुरू हो गई है। भारत के प्रदर्शन का विश्लेषण करते हुए, युवराज ने कहा कि विशेष मध्य-क्रम के बल्लेबाजों की कमी एक महत्वपूर्ण कारण है जिस वजह से भारत ने आईसीसी टूर्नामेंटस में संघर्ष किया है।

- Advertisement -

युवराज ने कहा कि 2019 CWC में लगातार चॉप-एंड-चेंज ने टीम की मदद नहीं की। “जब हमने विश्व कप (2011) जीता, तो हम सभी के पास बल्लेबाजी करने के लिए एक निर्धारित स्थान था जहाँ हमें बल्लेबाजी करनी थी।” सीडब्ल्यूसी 2011 के ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ ने आगे कहा, “मैंने 2019 विश्व कप में ये महसूस किया की उन्होंने इस टूर्नामेंट की अच्छी योजना नहीं बनाई थी।”

अंबाती रायुडू के मुद्दे को याद करते हुए युवराज ने कहा: “उन्होंने विजय शंकर को सिर्फ 5-7 एक दिवसीय मैचों के साथ (नंबर) 4 पर बल्लेबाजी करने के लिए चुना, फिर उन्होंने उनकी जगह ऋषभ पंत को लिया, जिन्होंने 4 एक दिवसीय मैच खेले थे। जब हमने 2003 का विश्व कप खेला था, मोहम्मद कैफ, (दिनेश) मोंगिया, और मैंने पहले ही 50-एकदिवसीय मैच खेले हुए थे।”

टी20 क्रिकेट से सब कुछ बदल रहा है- युवराज सिंह

- Advertisement -

युवराज ने स्पोर्ट्स 18 पर एक साक्षात्कार में बात करते हुए कहा, “टी20 में हमारे मध्य क्रम (बल्लेबाज) फ्रेंचाइजी क्रिकेट में बेहतर बल्लेबाजी करते हैं। यही वह जगह है जहां हमें पिछले टी20 विश्व कप में कमी आई थी ।”

खेल के सबसे कठिन प्रारूप पर चर्चा करते हुए, पूर्व बाएं हाथ के ऑलराउंडर ने कहा, “टेस्ट क्रिकेट मर रहा है। लोग अब टी20 क्रिकेट देखना चाहते हैं, लोग टी20 क्रिकेट खेलना चाहते हैं। कोई पांच दिवसीय क्रिकेट खेलकर पांच लाख रुपये क्यों लेगा जबकि आज टी20 क्रिकेट खेलकर उसे 50 लाख मिल रहे हैं? अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जगह नहीं बनाने वाले खिलाड़ियों को 7-10 करोड़ रुपये मिल रहे हैं।”

इसके अलावा, “आप एक टी20 मैच देखते हैं और फिर 50 ओवर का खेल देखते हैं तो यह भी अब एक टेस्ट मैच की तरह लगता है। 20 ओवर के बाद इस तरह लगता है जैसे बल्लेबाजी करने के लिए अभी तो और भी 30 ओवर शेष हैं! इसलिए, निश्चित रूप से टी 20 से सब कुछ बदल रहा है।” युवराज ने आगे जोड़ा।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here