वर्ल्ड कप की तैयारी के लिए फिटनेस से लेकर चयन तक ये बड़े बदलाव बीसीसीआई भारतीय टीम में करेगा

BCCI Rahul Rohit
- Advertisement -

भारत नए साल 2023 में श्रीलंका के खिलाफ 3 T20I और 3 ODI खेलेगा और घर में ही न्यूजीलैंड के खिलाफ 3 ODI और 3 T20I खेलेगा। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया में हुए टी20 वर्ल्ड कप में कप्तान रोहित शर्मा समेत सीनियर खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था इसलिए 2024 टी20 विश्व कप से पहले युवा क्रिकेटरों को मौका देकर नई टीम बनाने का काम शुरू करने वाली बीसीसीआई ने रोहित शर्मा की अगुवाई वाली सीनियर टीम को 2023 में होने वाले 50 ओवर के विश्व कप में घरेलू मैदान पर खेलने की अनुमति दे दी है।

पिछले साल जसप्रीत बुमराह, रवींद्र जडेजा, दीपक चहर जैसे प्रमुख खिलाड़ियों के लगातार चोटिल होने और बाहर होने के कारण भारत की हार हुई। कुल मिलाकर इस समय भारतीय टीम में फिटनेस एक बड़ा मुद्दा है। ऐसे में खबर सामने आई है कि कल मुंबई में हुई बीसीसीआई बोर्ड की बैठक में 20 खिलाड़ियों को 2023 विश्व कप में खेलने के लिए चुना गया है।

- Advertisement -

यह भी तय किया गया है कि यो-यो टेस्ट पास करने वाले खिलाड़ियों को ही भारत के लिए खेलने के लिए चुना जाएगा। बीसीसीआई के नेतृत्व में रविवार को मुंबई में भारतीय टीम की समीक्षा बैठक हुई। बीसीसीआई अध्यक्ष रोजा बिन्नी, सचिव जय शाह, कप्तान रोहित शर्मा, कोच राहुल द्रविड़, एनसीए अध्यक्ष लक्ष्मण और चयनकर्ताओं के प्रमुख चेतन शर्मा मौजूद थे। इसमें 2023 विश्व कप के लिए खिलाड़ियों के कार्यभार, फिटनेस, तैयारी यात्रा पर चर्चा की गई है।

इसके निष्कर्ष में सुझाए गए बड़े बदलाव हैं – देश के लिए खेलने के लिए उभर रहे युवा खिलाड़ियों का चयन तभी किया जाएगा जब उन्होंने पहले सीमित मात्रा में घरेलू क्रिकेट खेला हो। अब से यो-यो टेस्ट और टेक्सा खिलाड़ियों के चयन के मानदंड का हिस्सा होंगे। और विशिष्ट केंद्रीय खिलाड़ियों को व्यक्तिगत रूप से संबोधित किया जाएगा।

- Advertisement -

साथ ही 2023 आईसीसी वर्ल्ड कप को ध्यान में रखते हुए एनसीए संबंधित टीम मैनेजर्स से इस बात पर चर्चा करता रहेगा कि आईपीएल सीरीज में खेलने वाले खिलाड़ी किस हद तक खेलेंगे। साथ ही बीसीसीआई ने 2023 विश्व कप के लिए 20 प्रस्तावित खिलाड़ियों को शॉर्टलिस्ट किया है। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने उन्हें रोटेशन में नियमित मौका देने की सिफारिश की है।

इस घोषणा से साफ है कि अब से युवा खिलाड़ियों को भारत के लिए तभी चुना जाएगा, जब उन्होंने सिर्फ आईपीएल सीरीज ही नहीं बल्कि घरेलू क्रिकेट में भी काफी खेला हो। यह स्थिति पैदा हो गई है कि जिन खिलाड़ियों को भारत के लिए खेलने के लिए चुना जाता है उन्हें पहले यो-यो फिटनेस टेस्ट पास करना होता है। इससे भी अधिक यह ज्ञात है कि एनसीए संबंधित टीम प्रबंधकों के साथ बातचीत करेगा और उन खिलाड़ियों के लिए अनुमति प्राप्त करेगा जिनके विश्व कप में खेलने की उम्मीद है और उन्हें आईपीएल श्रृंखला में खेले बिना पर्याप्त आराम मिलेगा।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here