आप अपनी असीमित इच्छा से सब कुछ नहीं खरीद सकते – बीसीसीआई ने जडेजा को दिखाया आईना, ये है वजह

Ravindra Jadeja
- Advertisement -

भारतीय क्रिकेट टीम श्रीलंका के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला खेल रही है। इसके बाद भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ 3 टी20 और 3 वनडे मैचों की श्रृंखला में भाग लेगी। भारत फरवरी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऐतिहासिक बॉर्डर-गावस्कर कप टेस्ट सीरीज में भी खेलेगा। बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी भारतीय टीमों में सबसे महत्वपूर्ण श्रृंखला के रूप में देखा जाता है क्योंकि जून में लंदन में होने वाली टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के लिए एक मजबूत स्पिन विभाग महत्वपूर्ण है।

कारण यह है कि भारत की धरती पर हमेशा अधिक स्पिन होती है और ऑस्ट्रेलिया जैसे विदेशी बल्लेबाज अच्छी स्पिन पर ठोकर खाते हैं। ऐसे में इस सीरीज में अश्विन-जडेजा की अनुभवी स्पिन गेंदबाजी जोड़ी के ऑस्ट्रेलिया को चुनौती देने की उम्मीद है लेकिन उसके लिए जो भारतीय टीम घोषित की गई है उसमें रवींद्र जडेजा को शामिल नहीं किया गया है, क्योंकि उनकी जगह अश्विन ने ली है।

- Advertisement -

जडेजा 10 से अधिक वर्षों से भारत के लिए खेल रहे है और 2019 विश्व कप के बाद वह दुनिया के नंबर एक स्पिन गेंदबाजी ऑलराउंडर के रूप में चमक रहे है। उन्होंने 2022 एशिया कप में खेला और चोट के कारण ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप से बाहर हो गए। वह पिछले सितंबर में बाहर हो गए थे और अब स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। लेकिन 3 महीने की चोट के बाद, वह पहले ही ठीक हो चुके हैं और गुजरात में हाल ही में संपन्न हुए चुनावों में अपनी पत्नी के राजनीतिक अभियान में भाग ले चुके हैं।

ऐसे में नई खबरें आ रही हैं कि जडेजा, जिन्होंने चोट से उबरने के बावजूद स्थानीय क्रिकेट भी नहीं खेला है, उन्हें ऑस्ट्रेलियाई सीरीज के लिए इसलिए नहीं चुना गया है क्योंकि उन्हें नहीं पता कि उनकी मौजूदा फॉर्म क्या है। ऐसे में खबरें हैं कि बीसीसीआई ने जडेजा से मौजूदा रणजी ट्रॉफी में खेलकर यह साबित करने को कहा है कि वह कितने फिट हैं।

- Advertisement -

बीसीसीआई के सीईओ ने इस बारे में कहा, “हमने जडेजा को कम से कम एक स्थानीय मैच खेलने के लिए कहा है क्योंकि हम नहीं जानते कि वह इस समय कितना फिट है। अगर वह ऐसा करते हैं और पूरी तरह से फिट हो जाते हैं, तो भारतीय मध्यक्रम के बल्लेबाजी क्रम में बाएं हाथ के बल्लेबाजों की समस्या हल हो जाएगी।”

दूसरे शब्दों में, बीसीसीआई ने उन्हें घरेलू क्रिकेट खेलने की सलाह दी है ताकि जडेजा राहुल की तरह लड़खड़ाएं नहीं। साथ ही बीसीसीआई जडेजा के साथ यह कहते हुए सख्त हो गया है कि अक्षर पटेल पहले से ही स्थानीय टूर्नामेंट में खेलने और धैर्य रखने के लिए तैयार हैं।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here