50, 100 शतक लगाना तो एक बड़ा वरदान है लेकिन पीछे मिली हार से भी सीख लेनी चाहिए – गंभीर ने फिर की विराट कोहली की आलोचना

Virat Gambhir
- Advertisement -

भारत ने श्रीलंका के खिलाफ घर में 3 मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला के पहला 2 मैच जीतकर ट्रॉफी हासिल करने के लिए 2 – 0* की बढ़त बना ली है। दिग्गज सचिन तेंदुलकर के बाद भारतीय बल्लेबाजी का स्तंभ माने जाने वाले विराट कोहली की फॉर्म भारत के लिए घरेलू सरजमीं पर विश्व कप जीतने के लिए बेहद जरूरी है। क्योंकि पिछले 10 साल में उन्होंने 3 तरह की भारतीय टीम में कई शतक और रन बनाए और कई ऐतिहासिक जीत हासिल की।

- Advertisement -

उन्होंने पिछले महीने बांग्लादेश में हुई वनडे सीरीज के आखिरी मैच में शतक के साथ 2022 का साल पूरा किया और श्रीलंका के खिलाफ पहले मैच में शतक के साथ साल 2023 की शुरुआत की। 12 जनवरी को कोलकाता में दूसरे मैच में उनसे हैट्रिक शतक बनाने की उम्मीद थी, लेकिन 216 रनों का पीछा करते हुए वह 4 रन बनाकर आउट हो गए।

राहुल के बढ़िया प्रदर्शन के दम पर भारत जो अपनी लड़खड़ाहट से हार के मुहाने पर था, किसी तरह जीत गया। पूर्व खिलाड़ी गौतम गंभीर ने फिर विराट कोहली की आलोचना करते हुए कहा कि इतनी महत्वपूर्ण और तनावपूर्ण स्थिति में बिना बड़े रन बनाए बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज गंवाने के बाद पिछले मैच में शतक लगाने जैसा प्रदर्शन दिखाने का क्या फायदा।

- Advertisement -

गौतम गंभीर ने कहा, “हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि भारत बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज हार गया लेकिन हम यह भूल गए हैं। हां मनमानी करने वाले खिलाड़ियों का बेहतरीन खेल जरूरी है। उनके शतक भी अहम हैं। खासकर जब आप अपने नाम पर 50 सेंट या 100 सेंट प्राप्त करते हैं, तो यह देखना बहुत अच्छा होता है। लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि बांग्लादेश में क्या हुआ। क्योंकि यह हमारे लिए एक बहुत बड़ा सबक था।”

उन्होंने आगे कहा, “विशेष रूप से बांग्लादेश के खिलाफ, पूरी तरह से मजबूत भारतीय टीम को घर में हार का सामना करना पड़ा। इसलिए हमें उस श्रृंखला से सबक सीखना चाहिए और सिर्फ इस श्रृंखला पर ध्यान नहीं देना चाहिए। खासकर हमें अतीत में जो हुआ उसे नहीं भूलना चाहिए।” दूसरे शब्दों में, गौतम गंभीर ने परोक्ष रूप से विराट कोहली की आलोचना करते हुए कहा कि छोटे मैचों में शतक लगाने का कोई मतलब नहीं है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here