ऋषभ पंत ने सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ते हुए बनाया एक असाधारण रिकॉर्ड

Sachin Tendulkar
- Advertisement -

भारत के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने शुक्रवार, 1 जुलाई को बर्मिंघम के एजबेस्टन में इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच में अपने जवाबी शतक के दौरान कई रिकॉर्ड तोड़े। उन्होंने इंग्लैंड के गेंदबाजी आक्रमण पर 111 गेंदों पर 131.53 के स्ट्राइक रेट से 146 रन बनाए। उनकी पारी ने पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद भारतीय टीम को अच्छी स्थिति में पहुंचा दिया।

ऋषभ पंत की धमाकेदार पारी में बीस चौके और चार छक्के शामिल थे। इस प्रक्रिया में, उन्होंने महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे कम उम्र में 100 छक्के लगाने के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। बाएं हाथ के बल्लेबाज ने 24 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में छक्कों के मामले में तीन अंक के आंकड़े तक पहुंच गए, जबकि सचिन तेंदुलकर ने 25 साल की उम्र में यह उपलब्धि हासिल की थी।

- Advertisement -

विकेटकीपर बल्लेबाज ने भारत के लिए 31 टेस्ट मैचों में 48 छक्के, एकदिवसीय मैचों में 24 छक्के और 48 टी 20 आई मैचों में 31 छक्के लगाए हैं। उन्होंने जैक लीच को शुक्रवार को 37वें ओवर में 100वां छक्का लगा कर यह रिकॉर्ड बनाया। यह ऋषभ पंत का मैच का पहला छक्का भी था। उन्होंने पारी में तीन और हिट किए।

ऋषभ पंत ने मैच में भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया। उन्होंने एक भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज द्वारा सबसे तेज शतक बनाया। धोनी ने 2005 में 93 गेंदों में शतक जड़कर यह उपलब्धि हासिल की थी, जबकि ऋषभ पंत ने इसे पूरा करने के लिए सिर्फ 87 गेंदें लीं। यह इंग्लैंड के खिलाफ इंग्लैंड के खिलाफ ऋषभ पंत का दूसरा शतक था और टेस्ट क्रिकेट में उनका कुल पांचवां शतक था।

- Advertisement -

स्थिति के हिसाब से खेलने की कोशिश करें: ऋषभ पंत ने राहुल द्रविड़ की सलाह का खुलासा किया
ऋषभ पंत की पलटवार ने प्रशंसकों और विशेषज्ञों को हैरान कर दिया। मुख्य कोच, राहुल द्रविड़, जो आमतौर पर शांत रहते हैं, भारतीय ड्रेसिंग रूम में एनिमेटेड दिखे। उन्होंने विकेटकीपर बल्लेबाज के लिए ऋषभ पंत के शतक का जश्न जोर-शोर से मनाया।

मैच के बाद, ऋषभ पंत ने मैच से पहले राहुल द्रविड़ से मिली सलाह का खुलासा किया । उन्होंने व्यक्त किया कि कोच ने उन्हें स्थिति के अनुसार खेलने के लिए कहा। ऋषभ पंत ने कहा, “राहुल भाई ने मुझे गेंद के अनुसार खेलने और एक समय में एक गेंद पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा, बस स्थिति को खेलने की कोशिश करो और यह मत सोचो कि क्या होने वाला है।”

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here