IND vs NZ: इतिहास में तीसरी बार कल के मैच में एक हुई एक दुर्लभ घटना – क्या हुआ?

Indian Cricket Team
- Advertisement -

भारत और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा टी20 मैच कल नेपियर में समाप्त हुआ। इस मैच में हुए एक दिलचस्प वाकये ने न सिर्फ फैन्स का ध्यान खींचा बल्कि अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट के इतिहास में तीसरी बार हुए इस दुर्लभ घटना की जानकारी भी खूब शेयर की जा रही है। ऐसे में इस सीरीज के पहले दो मैचों की समाप्ति पर भारतीय टीम शून्य से एक (1-0) से आगे चल रही थी।

इस बीच, कल का तीसरा मैच बिना किसी जीत या हार के टाई पर समाप्त हुआ। इसके चलते भारतीय टीम ने शून्य से एक (1-0) के स्कोर से सीरीज जीत ली। हालांकि कल तीसरे मैच में पहले खेलने वाली न्यूजीलैंड की टीम ने 19.4 ओवर में सभी विकेट गंवाकर 160 रन जमा कर लिये।

- Advertisement -

तब भारतीय टीम ने जीत के लिए 161 रनों का लक्ष्य रखा था और जब उसने 9 ओवर खेलकर खेले तो उसने 4 विकेट खोकर 75 रन जमा किए। तभी मैच के बीच में बारिश के कारण मैच में खलल पड़ गया। लंबे समय के बाद बारिश नहीं रुकी और डग वर्थ-लुईस पद्धति के अनुसार इस मैच का परिणाम “टाई” के रूप में घोषित किया गया।

मैच के दौरान बारिश या खराब मौसम की स्थिति में डग वर्थ-लुईस प्रणाली का पालन किया जाता है। जब इस नियम का पालन किया जाता है तो 99 प्रतिशत बार किसी भी टीम की जीत निश्चित रूप से या तो रनों के अंतर से या विकेटों के अंतर से होती है।

लेकिन इस नियम का पालन करने और दो टीमों के बीच ड्रॉ में समाप्त होने वाले मैच के लिए इसे एक दुर्लभ घटना के रूप में देखा जा रहा है, जैसा कि पिछले साल नीदरलैंड और मलेशिया और माल्टा और जिब्राल्टर के बीच डग वर्थ-लुईस के अनुसार ड्रा में समाप्त हुआ था।

इसके बाद, टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीसरी बार भारत और न्यूजीलैंड के बीच मैच “टाई” द्वारा चिह्नित किया गया था, हालांकि तीसरी बार डकवर्थ-लुईस पद्धति का पालन किया गया था। गौरतलब है कि कल के मैच “टाई” को एक दुर्लभ घटना के रूप में अधिक से अधिक साझा किया जा रहा है, भले ही डग वर्थ लुईस पद्धति का पालन किया गया हो।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here