अगर आप इससे बेहतर खिलाड़ी चाहते हैं तो उस चैनल पर जाकर देखें – चयनकर्ताओं को गावस्कर ने दिखाया आईना, क्या है वजह

Sunil Gavaskar
- Advertisement -

भारत को इस साल जून में लंदन में होने वाली टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल्स के लिए क्वालीफाई करने के लिए फरवरी में घर में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी सीरीज में कम से कम 3 मैच जीतने होंगे। उसके लिए सरफ़राज़ खान को रोहित शर्मा के नेतृत्व में घोषित पहले दो टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम में शामिल नहीं किया गया, जिससे उनके प्रशंसक निराश थे। क्योंकि पिछले तीन साल से वो स्थानीय टेस्ट क्रिकेट सीरीज में अच्छा कर रहे हैं और लगातार 800,900 रन बना रहे हैं।

वह मौजूदा रणजी ट्रॉफी श्रृंखला में भी बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहे है और 80 से अधिक की बल्लेबाजी औसत के साथ दुनिया में डॉन ब्रैडमैन के बाद दूसरे स्थान पर है। हालांकि, जिन चयनकर्ताओं ने उन्हें नजरअंदाज किया है, उन्होंने ईशान किशन और सूर्यकुमार यादव को चुना है, जिनका घरेलू टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाजी औसत 45 से कम है, क्योंकि वे व्हाइट-बॉल क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते हैं।

- Advertisement -

इससे यह आलोचना होने लगी है कि ऐतिहासिक रणजी ट्रॉफी का अपमान किया गया है और कोई भी इसे देखते हुए भारतीय टेस्ट टीम का चयन नहीं कर रहा है। ऐसी राय है कि सरफ़राज़ खान के नहीं चयन का एक और कारण यह है कि वह इसके साथ जाने के लिए थोड़ा छोटा और अधिक वजन वाला है।

लेकिन इतिहास में एक उदाहरण के रूप में, इंजमाम-उल-हक और अर्जुन रणतुंगा, जिन्होंने अपने वजन पर विश्वास किया और जबरदस्त प्रदर्शन किया, बड़े रन बनाए और विश्व कप जीता। पूर्व दिग्गज सुनील गावस्कर ने रणजी ट्रॉफी में सरफराज़ खान से बेहतर खिलाड़ी की तलाश करने और बिना बोले टीवी पर ड्रेस-अप शो देखने के लिए चयनकर्ताओं की आलोचना की है।

- Advertisement -

उन्होंने हाल ही में एक साक्षात्कार में इसकी आलोचना की। उन्होंने कहा, “क्रिकेट में अगर आप फिट नहीं हैं तो आप शतक नहीं बना सकते। इसलिए फिटनेस जरूरी है। इसलिए मुझे यो-यो टेस्ट को वापस लाने में कोई समस्या नहीं है। साथ ही यो-यो टेस्ट खिलाड़ियों के चयन का पैमाना नहीं होना चाहिए। इसके बजाय आपको सिर्फ यह सुनिश्चित करना है कि खिलाड़ी क्रिकेट के लिए फिट है।”

उन्होंने आगे कहा, “मुझे लगता है कि केवल एक चीज मायने रखती है कि क्या वह व्यक्ति क्रिकेट के लिए फिट है, चाहे वह कोई भी हो। अगर आप केवल दुबले-पतले पुरुषों की तलाश में हैं, तो इसके बजाय किसी फैशन शो में जाएं और प्रतियोगियों को चुनें। उसे गेंद और टोपी दो और उन्हें टीम में ले आओ।”

- Advertisement -

उन्होंने आगे कहा, “आमतौर पर दुनिया में हर किसी का बॉडी टाइप अलग होता है। इसी तरह क्रिकेट में खिलाड़ी आकार में भिन्न होते हैं। इसलिए इस आधार पर देखें कि वे शरीर के वजन और आकार को देखे बिना कितने रन और विकेट लेते हैं।” जैसा कि वे कहते हैं, शारीरिक फिटनेस क्रिकेट के लिए आवश्यक है लेकिन यह निश्चित रूप से सही तरीका नहीं है। तो उनके प्रशंसकों की भी यही इच्छा है कि चेतन शर्मा चयन समिति बॉडी वेट को दूसरे नंबर पर रखते हुए केवल शानदार प्रदर्शन के आधार पर खिलाड़ियों का चयन करे।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here