आमतौर पर पंजाब की खराब टीम की जय-जयकार करने वाले प्रशंसक उनके चरित्र को नहीं समझ सकते – इसका कारण यहाँ है

Punjab Kings
- Advertisement -

विश्व प्रसिद्ध आईपीएल श्रृंखला का 16वां सीजन मार्च 2023 में भारत में आयोजित किया जाएगा। खिलाड़ियों की नीलामी 23 दिसंबर को कोच्चि में आयोजित की गई थी। यह कहा जा सकता है कि आवश्यक खिलाड़ियों को खरीदने के लिए प्रतिस्पर्धा करने वाली 10 टीमों में पंजाब किंग्स टीम के प्रबंधन ने हमेशा की तरह काम किया।

2008 से, बॉलीवुड अभिनेत्री प्रीति ज़िंदा के स्वामित्व वाली पंजाब टीम एक भी ट्रॉफी जीतने में असमर्थ रही है क्योंकि यह उन गतिविधियों का प्रदर्शन कर रही है जिन्हें विरोधियों से पैर जमाने के लिए मापा गया है। आईपीएल सीरीज के दौरान निश्चित 11 खिलाड़ियों को हमेशा मौका नहीं देने वाली टीम के प्रबंधन ने कुछ हार के लिए बड़े बदलाव के नाम पर कप्तान बदलने की आदत बना ली है।

- Advertisement -

दरअसल, हर 2 सीजन में 1 कप्तान बदलने की आदत रखने वाली टीम मैनेजमेंट ने मयंग अग्रवाल को कप्तानी में अनुभवहीन होने के बावजूद इस साल मौका दिया। लेकिन जो युवा खिलाड़ी इससे पहले स्थानीय मैचों में भी कप्तानी का अनुभव नहीं होने के कारण लड़खड़ाया था, उसे पंजाब प्रबंधन ने दूसरा मौका दिये बिना ही टीम से पूरी तरह से हटा दिया, क्योंकि उसकी उम्र 35 वर्ष से अधिक हो चुकी है।

टीम प्रबंधन ने शिखर धवन को नया कप्तान घोषित किया है। ऐसी स्थिति में कि यह टीम के लिए एक दुर्भाग्यपूर्ण निर्णय था, मयंग अग्रवाल सहित कई खिलाड़ियों को हटाने वाले पंजाब के प्रबंधन ने अन्य टीमों की तुलना में 42.20 करोड़ की बड़ी राशि के साथ नीलामी में प्रवेश कि जबकि वे प्ले-ऑफ के लिए क्वालीफाई भी नहीं कर पाए थे।

- Advertisement -

उस साहस के साथ, पंजाब ने सैम क्यूरन को 18.50 करोड़ रुपये की हिमालयी राशि में खरीदा, जिन्होंने इंग्लैंड को 2022 टी 20 विश्व कप के फाइनल में जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई। उनके पास क्वॉलिटी हैं लेकिन इतनी बड़ी रकम उनके लिए बहुत ज्यादा है। 2022 सीज़न में 15 करोड़ में ख़रीदे जाने के बाद लड़खड़ाने वाले युवा क्रिकेटर ईशान किशन की तरह, उन्हें भी प्रदर्शन करने के लिए अनुचित दबाव में ठोकर खाने की संभावना है।

इसके अलावा पंजाब की टीम का सबसे अच्छा फैसला जिम्बाब्वे के स्टार ऑलराउंडर सिकंदर रजा को महज 50 लाख में साइन करना रहा। बहरहाल, नीलामी में पहले शीर्ष खिलाड़ी को 18.50 करोड़ में खरीदा, दूसरे शीर्ष खिलाड़ी को महज 50 लाख में खरीदा, इससे साफ पता चलता है कि पंजाब की टीम का रवैया कैसा था।

- Advertisement -

इन सब से भी बुरी बात यह है कि पंजाब प्रबंधन ने उन 2 खिलाड़ियों के अलावा कुछ अनुभवहीन युवा खिलाड़ियों को बिना किसी अन्य गुणवत्ता वाले अनुभवी खिलाड़ियों को सस्ते दाम पर खरीद लिया। पंजाब द्वारा खरीदे गए नए खिलाड़ियों की सूची: सैम क्यूरन (18.50 करोड़), सिकंदर रजा (50 लाख), हरप्रीत भाटिया (40 लाख), विदवत कावेरप्पा (20 लाख), मोहित राठी (20 लाख), शिवम सिंह (20 लाख)।

इन खिलाड़ियों को खरीदने के लिए केवल 20 करोड़ रुपये खर्च करने के बाद भी नीलामी के अंत में पंजाब प्रशासन के पास 12.20 करोड़ रुपये का बड़ा रिजर्व है। लेकिन टीम ने अधिकतम 25 स्थानों में से केवल 23 खिलाड़ियों को भरा है और अभी भी 3 रिक्तियां हैं। इसे देखने वाले क्रिकेट फैंस चिढ़ा रहे हैं कि वो उन 3 खिलाड़ियों को बिना खरीदे ही 12.20 करोड़ रुपये बैंक में जमा कराने जा रहे हैं।

- Advertisement -

कुल मिलाकर, यह देखना बाकी है कि पंजाब, जिसने अथाह चरित्र के साथ इस बोली में कम प्रदर्शन किया है, क्या मैदान पर अच्छा प्रदर्शन करेगा और 2023 सीज़न में ट्रॉफी जीतेगा।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here