टी 20 विश्व कप के सेमीफइनल में मिले करारी हार से दुखी प्रशंसकों से अश्विन ने की ये खास गुजारिश

R Ashwin
- Advertisement -

रोहित शर्मा के नेतृत्व में भारत ने ऑस्ट्रेलिया में आईसीसी टी20 विश्व कप में नंबर एक क्रिकेट टीम के रूप में प्रवेश किया, लेकिन नॉकआउट दौर में हार गया और हमेशा की तरह खाली हाथ बाहर हो गया। खासतौर पर यह तथ्य कि भारत इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में एक भी विकेट लिए बिना हार गया, ने प्रशंसकों को दुखी कर दिया।

इतनी अधिक दबाव वाली आईपीएल श्रृंखला में खेलने के अनुभव के बावजूद, भारत नॉकआउट मैच में दबाव को नहीं संभाल सका और इसने प्रशंसकों को पीड़ा में छोड़ दिया। ऐसे में भारत का 2007 के बाद दूसरी ट्रॉफी जीतने का सपना फिर से 2024 में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप तक के लिए टाल दिया गया है।

- Advertisement -

इससे पहले, प्रशंसक और पूर्व खिलाड़ी इस विश्व कप में विराट कोहली और सूर्यकुमार जैसे कुछ खिलाड़ियों को छोड़कर ज्यादातर मामूली प्रदर्शन करने वाले वरिष्ठ खिलाड़ियों को हटाने और युवा खिलाड़ियों को अवसर देने और एक पूरी तरह से नई टीम बनाने का अनुरोध करते रहे हैं। पूर्व खिलाड़ी सहवाग ने बिना नाम लिए अगले विश्व कप में कप्तान रोहित शर्मा, रविचंद्रन अश्विन और इस सीरीज में लचर प्रदर्शन करने वालों की खुलकर आलोचना की।

इस मामले में अनुभवी खिलाड़ी अश्विन ने आलोचना का जवाब देते हुए कहा कि भले ही जीत के लिए जितना हो सके संघर्ष करने के बावजूद ट्रॉफी नहीं जीत पाना निराशाजनक था, सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई करना एक उपलब्धि है। खास तौर से इसी वर्ल्ड कप में घर में डिफेंडिंग चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया और पिछली बार साउथ अफ्रीका सेमीफाइनल के लिए भी क्वालीफाई नहीं कर पाई थी।

- Advertisement -

उन्होंने अपने यूट्यूब पेज पर कहा कि प्रशंसकों को इस बात की सराहना करनी चाहिए कि भारतीय टीम ने सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए जितना संभव हो संघर्ष किया। उन्होंने कहा, ‘भारतीय टीम के न जीतने या फाइनल के लिए क्वालीफाई नहीं करने से हर कोई परेशान होता। मैं मानता हूं कि इससे सभी का दिल टूट गया होगा। कोई भी बहाना आपको इसे भूलने नहीं दे सकता। यह निश्चित तौर पर निराशाजनक क्षण है।”

उन्होंने कहा, “हमें इसके बारे में सोचे बिना आगे बढ़ना होगा। वहीं, हम यह नहीं कह सकते कि इस सीरीज ने हमें कुछ ज्यादा ही निराश किया है। क्योंकि अगर हम सेमीफाइनल में हार भी जाते हैं तो हम उस शिखर तक पहुंचने को उपलब्धि मान सकते हैं। लेकिन एक भारतीय प्रशंसक के नजरिए से और भारतीय टीम से उनकी उम्मीदों के हिसाब से मैं प्रशंसकों की निराशा को पूरी तरह से समझता हूं। साथ ही, आप प्रशंसकों ने जो निराशा झेली है, उससे 200-300 गुना ज्यादा निराश हम हैं।”

- Advertisement -

हालाँकि वह जो कह रहे है वह सच है, भारतीय टीम की गुणवत्ता और प्रतिभा एक भी विकेट लिए बिना इंग्लैंड की हार है। साथ ही प्रशंसकों का सवाल यह भी है कि जो भारतीय टीम साधारण दोतरफा सीरीज में जीत दर्ज कर रही है, वही तनावपूर्ण एशिया कप और विश्व कप में क्यों नहीं जीत सकी।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here